Effect of NDTV news, drug controller gave instructions to states regarding the drug Remedesvir of Corona patients – NDTV की खबर का असर, कोरोना मरीजों की दवा रेमडेसिविर को लेकर ड्रग कंट्रोलर ने राज्यों को दिए निर्देश

Hindi News

[ad_1]

NDTV की खबर का असर, कोरोना मरीजों की दवा 'रेमडेसिविर' को लेकर ड्रग कंट्रोलर ने राज्यों को दिए निर्देश

वैसे तो इस दवा का मूल्य 5400 रुपए है, लेकिन यह 15000 से 160000 में बिक रही है.

नई दिल्ली:

कोरोनावायरस के इलाज में कुछ हद कारगर साबित रहो रही अमेरिकी दवा कंपनी गिलीड साइंसेज की वायरल रोधी दवा रेमडेसिविर (Remdesivir) की भारत में कालाबाजारी हो रही है. इसे लेकर एनडीटीवी ने 3 जुलाई को खबर भी दिखाई थी. दिल्ली में बड़े प्राइवेट अस्पतालों को छोड़कर बाकी किसी जगह यह दवा उपलब्ध नहीं है. ऐसे में अगर किसी मरीज को रेमडेसिविर दवा खरीदना हो तो ब्लैक मार्केट में अधिकतम खुदरा मूल्य (एमआरपी) से कई गुना अधिक पैसा देकर ही खरीद सकता है. इस खबर का असर यह हुआ कि अब ड्रग कंट्रोलर ने सभी राज्यों को पत्र लिखकर रेमडेसिविर की काला बाजारी रोकने के लिए कदम उठाने को कहा है. उन्होंने कहा कि कोई भी इस दवा का मूल्य एमआरपी से ज्यादा वसूलने न पाए इसके लिए राज्य उपाय करें. 

यह भी पढ़ें

बता दें कि भारत में तीन कंपनियों को रेमडेसिविर के उत्पादन की इजाजत दी गई है. इस दवा की भारत में केवल 20 हजार डोज ही उपलब्ध है. इनमें से ज्यादातर दवा को प्राइवेट अस्पताल ने स्टॉक कर रखा है. दिल्ली में राम मनोहर लोहिया अस्पताल जैसे बड़े सरकारी अस्पतालों में भी ये दवा उपलब्ध नहीं है. वैसे तो इस दवा का मूल्य 5400 रुपए है, लेकिन यह 15000 से 160000 में बिक रही है. खुद कैमिस्ट एसोसिएशन ने भी मान था कि कुछ जगहों पर रेमडेसिविर के काला बाजारी की शिकायत मिली है..

भारत में रेमडेसिविर को बनाने के लिए फिलहाल तीन कंपनियों को ही इजाजत मिली है.ये दवा खुले बाजार में नहीं मिलती है. अस्पतालों के जरिए या ऑनलाइन डॉक्टर के पर्चे पर कंपनी ही इस दवा को उपलब्ध कराती है. इस दवा का ज्यादातर स्टॉक को अमेरिका के पास ही है. भारत में तीन कंपनियों को अब इसके उत्पादन की इजाजात मिली है. लेकिन 21 जून को भारत सरकार की मंजूरी के बावजूद जब दिल्ली के बड़े सरकारी अस्पतालों में ये दवा उपलब्ध नहीं है तो दूर दराज के शहरों के हालात को समझा जा सकता है.

Video: कोविफोर: 5 राज्यों में भेजी गई रेमडेसिवीर

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *